Website in - English

 

संक्षिप्त विवरण

      डॉ. सुरिंदर सिंह,  एम.बी.बी.एस, एम.डी

 

 

 

 

 

डॉ. सुरिंदर सिंह ने 1985 में जम्मू मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस किया और 1988 में हरियाणा के रोहतक मेडिकल कॉलेज से एमडी (माइक्रोबायोलॉजी) की पढ़ाई की। इन्होंने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान नई दिल्ली से माइक्रोबायोलॉजी (1988-1991) में अपने वरिष्ठ रेसीडेंसी पूर्ण की।

 

इन्होंने फरवरी -2008 में भारत के औषध महानियंत्रक का पदभार संभाला और 2 नवंबर, 2011 तक इस पद पर कार्य किया। वर्तमान में डॉ. सुरिंदर सिंह राष्ट्रीय जैविक संस्थान, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार के निदेशक हैं जो जिसमें वैक्सीन और बायो-फार्मास्यूटिकल्स सहित सभी जैविक पदार्थों के जांच की राष्ट्रीय नियंत्रण प्रयोगशाला हैं। इन्हें मैशासुसेट्स बायोलॉजिक लैबोरेटरी, बोस्टन यूएसए के द्वारा अच्छे विनिर्माण प्रैक्टिस (सीजीएमपी) में प्रशिक्षण प्राप्त है और इन्होंने 1997 में मैरीलैंड पब्लिक हेल्थ लैबोरेटरी, बाल्टीमोर (यूएसए) में सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयोगशाला प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया की।

12 वीं पंचवर्षीय योजना के अंतर्गत पंजाब राज्य में ड्रग्स रेगुलेशन एंड ड्रग्स टेस्टिंग लैबोरेट्री के सुदृढ़ीकरण" के लिए एक संस्थागत विकास योजना (आईडीपी) विकसित करने के लिए गठित विशेषज्ञ समिति के अध्यक्ष के रूप में इन्हें पंजाब राज्य सरकार द्वारा अक्टूबर 2012 में नियुक्त किया गया था"

 

पुरस्कार:

 

1 जुलाई 2014 को चिकित्सक दिवस पर भारत में रक्त सुरक्षा कार्यक्रम के प्रति उत्कृष्ट योगदान के लिए बी सी राय मेमोरियल अवार्ड 2014 प्रदान किया गया



  केमटेक फाउंडेशन भारत द्वारा विनियामक पर्यावरण में उत्कृष्ट पहल के लिए फार्मा-बायो वर्ल्ड अवार्ड्स 2011 से सम्मानित किया गया

पहचान

 

  •  

 यूके फार्मा मैगज़ीन वर्ल्ड फार्मास्युटिकल फ्रंटियर्स के विशेषज्ञों के एक पैनल द्वारा घोषित ग्लोबल फार्मा उद्योग में दुनिया के 40 सबसे प्रभावशाली लोगों की सूची में लगातार तीन वर्षों के लिए वर्ष 2011, 2010 और 2009 के लिए शामिल किया गया। इस सूची में प्रसिद्ध व्यापारियों, परोपकारियों, वैज्ञानिकों, नियामकों और विधायकों जैसे बिल एंड मेलिंडा गेट्स, राष्ट्रपति बराक ओबामा, डॉ मारग्रेट चान, डब्ल्यूएचओ, और बिल क्लिंटन संस्थापक विलियम जे क्लिंटन फाउंडेशन के नाम इसमें शामिल हैं।"

 

 
कैरियर की अन्य विशेषताएँ  

 

क) वर्ष 2010 और वर्ष 2012 में क्रमशः भारत के फार्माकोविजेंस और हीमोविजिलेंस प्रोग्राम की संकल्पनात्मक शुरूआत और कार्यान्वयन 

 

ख) डब्लूएचओ नेशनल रेगुलेटरी अथॉरिटी (एनआरए) में विशेषज्ञ सदस्य वर्ष 2013 में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व-मूल्यांकन और वर्ष 2007 एवं 2012 में थाईलैंड के डब्ल्यूएचओ एनआरए मूल्यांकन में विशेषज्ञ सदस्य के रूप में शामिल रहे।

 

ग) केंद्रीय औषध प्रयोगशाला के प्रमुख कसौली एवं वैक्सीन और सीरा के लिए सरकारी विश्लेषक (वर्ष 1994-1997) रहे।

 

घ) देश में 33 वैज्ञानिक पत्र प्रकाशित और 70 से अधिक टीका और जैविक उत्पादन इकाइयों की लेखा परीक्षा इनके द्वारा की गई।



विश्व फार्मास्यूटिकल फ्रंटियर वर्ष 2011  


विश्व फार्मास्यूटिकल फ्रंटियर वर्ष 2010  


विश्व फार्मास्यूटिकल फ्रंटियर वर्ष 2009


मीडिया कवरेज:


अंग्रे़जी:


क)डेली एक्सेलसियर, 15 जुलाई, 2014


ख) फार्माबिज़.कॉम, 17 सितंबर, 2012


ग) स्कूप न्यूज़ जम्मू, 17 सितंबर, 2012


घ) मेडिकल टाइम्स, 19 सितंबर, 2012


हिंदी :


क) तरुण मित्र, लखनऊ, 2 सितंबर, 2012


ख) लोकमत, लखनऊ, 2 सितंबर, 2012


ग) डेली न्यूज एक्टिविस्ट, 2 सितंबर, 2012


घ) वॉइस ऑफ लखनऊ, 03 सितंबर,2012



उर्दू :

 

क) आग उर्दू लखनऊ, 3 सितंबर, 2012



और:                                                                                                                                                      

क) अंग्रे़जी मीडिया :

 

ख) हिंदी मीडिया :

 

अद्यतनीकरण

 
परीक्षण प्रभार/शुल्क हेतु पुनरीक्षित दरें दिनांक 1/06/2016 से अनुमोदित एवं लागू

आईएसओ 15197: 2003 के अनुसार रक्त ग्लूकोज परीक्षण पट्टिका के जाँच/परीक्षण हेतु स्वीकृति मानदंड

 

परीक्षण हेतु निर्धारित समयावधि 

टिप्पणी के लिए निर्धारित स्थान :

 

 

   

 

 

 

 

  प्रयोगशालाओं के टैब पर मार्गदर्शन दस्तावेज 

 



मुख्य द्वार